इंड सिनर्जी को बंद करने प्रभावित लाम बन्द …..150 एकड़ से अधिक जमीन सहित ये है आरोप …..

औद्योगिक प्रदूषण फैलाने व आदिवासियों की भूमि पर बलात कब्जा करने वाले फैक्टरी इंड सिनर्जी लिमिटेड कोटमार को बंद करने कलेक्टर से मांग

फैक्टरी प्रबन्धन द्वारा अवैध तरीके से 150 एकड़ से अधिक जमीन पर बलात कब्जा

रायगढ़ मुनादी।

औद्योगिक प्रदूषण फैलाने व आदिवासियों की भूमि पर बलात कब्जा करने वाले फैक्टरी इंड सिनर्जी लिमिटेड कोटमार के खिलाफ ग्रामीण लामबंद होकर कलेक्ट्रेट पहुंचे। ग्रामीणों ने बताया कि इंड सिनर्जी लि. कोटमार, महुवापाली, सियारपाली क्षेत्र में स्थित है। जहां पावर प्लांट, स्पंज आयरन स्टील प्लांट स्थित है यहां 24 मेगावाट का केप्टिव पावर प्लांट भी है। फैक्टरी प्रबन्धन उद्योग लगाने व संचालित करने की उल्लेखित शर्तो का उल्लंघन किया जा रहा है। उद्योग की मनमानी को लेकर पर्यावरण संरक्षण मण्डल द्वारा निरीक्षण में अगस्त 2018 और जनवरी 2019 में किये गए निरीक्षण के प्रतिवेदन से जाहिर भी है और पर्यावरण विभाग द्वारा नियमों के तहत करवाई भी की गई थी लेकिन इसका असर इंड सिनर्जी प्रबन्धन को कोई फर्क नही पड़ा और लगातार आद्योगिक प्रदूषण जारी है और आस पास गांव पूरी तरह इसकी चपेट में है।
उद्योग द्वारा कई आदिवासियों की जमीन पर भी कब्जा कर रखा है। जिसमे कोटमार के 4 आदिवासी परिवार की करीब 12 एकड़ तथा 2 गैर आदिवासी और 2 दलित परिवार की लगभग 5 एकड़ भूमि पाए अतिक्रमण कर कारखाना स्थापित किया गया है। इसके अलावा कंपनी पर आरोप है कि उद्योग स्थापित करने अधिग्रहित की जाने वाली कुल भूमि 98.121 हेक्टयर है जो 250 एकड़ के लगभग होता है किंतु हकीकत में उद्योग प्रबन्धन द्वारा 400 एकड़ से अधिक जमीन अपने कब्जे में कर रखा है। जिसमे गौचर, छोटे झाड़ के जंगल, निजी भूमि शामिल है।
स्थानीय ग्रामीणों द्वारा अब इसकी मनमानी के खिलाफ 15 मार्च को कंपनी के गेट के सामने जंगी प्रदर्शन का एलान किया है। इसे लेकर आज ग्रामीणों का एक दल कलेक्ट्रेट पहुंच इस आशय का जिला प्रशासन को ज्ञापन भी दिया है। जिसमे कहा गया है कि फैक्टरी बन्द किया जाए।
ग्रामीणों का यह भी आरोप है कि उद्योगों में चलने वाले भारी वाहन जो 40 से 60 टन भार वाली वाहन धड़ल्ले से दौड़ रही हैं जबकि गांव की सड़क की भार क्षमता महज 12 टन है।

फैक्टरी के आद्योगिक प्रदूषण, भारी वाहनों की वजह से सड़क चलने लायक नही रह गई है। कहने को क्षेत्र में एक बड़ा उद्योग स्थापित हैं लेकिन इसका गांव विकास में भी कोई योगदान नही है। इसलिए ग्रामीणों की मांग है कि उद्योग द्वारा तमाम नियम कानून को ताक पर रख कर चलाया जा रहा है इसे बंद करा दिया जाना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

No messages

September 21, 2019

No messages
Clear all