प्रतिरोध एक सांस्कृतिक दखल ; 16,17 मार्च को भिलाई में राष्ट्रीय सांस्कृतिक सम्मलेन . 22 राज्यों से पहुचेंगें विभिन्न विधाओं के कला  कर्मी .  

भारत में वर्तमान में बड़े पैमाने पर राजनेतिक ,आर्थिक ,सांस्कृतिक ,सामाजिक समरसता , मानवअधिकार ,संविधान और लोकतंत्र पर संकट पैदा हो गया है ,ऐसे समय में विभिन्न सांस्कृतिक हस्तक्षेप की जरुरत महसूस की जा रही है और हर स्तर पर नागरिक समूह ,शिक्षा विद ,मानवाधिकार कार्यकर्त्ता इसके खिलाफ आन्दोलन और विभिन्न प्रतिरोध कर रहे हैं .

इसी कड़ी में 16,17 मार्च को भिलाई में नेशनल कन्वेंशन होने जा रहा है जिसमे पुरे देश से बड़ी संख्या लोक कलाकार , नाट्य समूह ,फिल्मकार ,कवि .साहित्यकार, लेखक . प्रकाशक भाग लेंगे . प्रमुख रूप से सीमा गांगुली ,टी एम् क्रष्णा ,दिव्या भारती ,पा रणजीत ,अरुंधती राय ,संजय गांगुली ,महीन मिर्ज़ा ,प्रकाश राज ,कुमार हसन ,अंशु मालवीय ,गोपाल नायडू ,नंदिता दास , भट्टा तिरी ,राहत इन्दोरी ,कुणाल ,श्री बाला ,सीमा आज़ाद , बली सिंह चीमा ,जेसिंता केर्किटा आदि के साथ 22 राज्यों से सांस्कतिक कर्मी भाग ले रहे हैं.

दो दिवसीय अयोजन में वैचारिक सत्र ,फिल्म प्रदर्शन ,विचार विमर्श ,नाटक ,कविताएँ ,गीत ,चित्र प्रदर्शनी ,हमारी जड़ें ,हम क्यों हैं,वे हमारे गीत रोकना चाहते है ,जनप्रिय बनाम जनवाद ,बाज़ार और प्रतिरोध ,कैसे बचेंगे आदि पर चर्चा होगी .

विभिन्न सत्रों में छत्तीसगढ़ से बड़ी संख्या में लेखक और सांस्कृतिक कर्मी भाग ले रहे है

स्वागत समिति के अध्यक्ष हीरा मानिकपुरी और सचिव कला दास देहरिया ने कला प्रेमियों से अपील की है की वे इस महत्वपूर्ण सम्मलेन में जरुर शिरकत करें और इस निर्णायक समय में हस्तक्षेप करके अपनी जिम्मेदारी को बखूबी निबाहें .

सभी आयोजन जैन भवन , सेक्टर 6 भिलाई जिला दुर्ग में किये जा रहे है.

स्वागत समिति .

हीरा मानिकपुरी ,अध्यक्ष ,कला दास डेहरिया ,सचिव ,तुहिन देव, प्रियंका ,अनुज ,जयप्रकाश नायर , पुष्पा ,इंदु शंकर मनु ,सुनील ,नन्द कश्यप ,सूर्यकान्त निर्मलकर ,राधा श्रीवास ,निसार अली, राज कुमार सोनी ,अरुण भांगे ,डा. शिरोडे ,नीलोत्पल शुक्ल ,संपा सिकंदर ,रजनी सोरेन , रिन चिन,अनिश श्रीवास ,लखन सुबोध ,सुनील चिपडे,शाकिर अली, कपूर वासनिक ,राजेश शर्मा ,गीत ,रचना ,प्रीती,पूजा ,श्वेता पाण्डेय ,चन्द्र शेखर ,संजय कुमार नायक ,व्हीएन प्रसाद ,सुरेन्द्र मोहंती ,अजीत ,गोवर्धन ,जतीन , और डा. लाखन सिंह आदि .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

No messages

July 18, 2019

No messages
Clear all